दिवाली उत्सव 2017 No firecrackers this diwali 2017 Hindi

Diwali Festival 2017 no firecrackers this diwali 2017 Hindi: इस साल दिवाली 17 अक्टूबर से शुरू होनेवाली है. दिवाली के त्यौहार पर मिठाइयाँ बाटी जाती है. दिये जलाए जाते है. पटाखें जलाये जाते है. दिवाली रौशनी का त्यौहार होता है. पांच दिन तक चलने वाले इस त्यौहार को भारत में धूम धाम से मनाया जाता है. लेकिन पटाखों (firecrackers) की वजह से इन पांच दिनों में काफी प्रदुषण होता है. इस साल प्रदुषण ना हो इसी लिए No firecrackers this diwali 2017 Hindi इस post में हमारा विषय है diwali firecrackers pollution.

The Indian firecracker industry

भारत में हर साल एक हजार करोड़ का business, firecracker को बेचने से होता है. पटाखों का बड़ा व्यापर भारत में दिवाली के उत्सव पर होता है. भारत में सबसे बड़ी industry शिवकासी में है. यहाँ पर पटाखों के packing करने का रोजगार बड़े पैमाने पर लोगोको मिलता है. लेकिन Diwali 2017 में कई जगहों पर firecrackers के sell पर और जलने पर ban लगा दिया है. इसकी वजह से कई लोगों के रोजगार का सवाल खड़ा हुआ है. लेकिन बढती गर्मी (Globle Warming) और प्रदुषण को मध्य नजर रखते हुए कोर्ट ने पटाखों को ban किया है.

Diwali firecrackers pollution

दिवाली के पटाखों में जो काफी सारे रसायन होते है, जिससे पर्यावरण और मनुष्य तथा प्राणियों को बड़ा नुकसान पोहोचता है. मनुष्य के फेफड़े जल्द ही ख़राब हो जाते है. crackers से निकलने वाला धुआ पर्यावरण में काफी मात्र में Dioxins फैलता है. इसकी वजह से त्वचा का रोग होता है. यहाँ तक की cancer भी इस पटाखों की वजह से हो सकता है. बूढ़े, और बच्चों पर इसका ज्यादा असर पड़ता है. परंपरा को ना देखते हुए हमें भविष्य का विचार करना चाहिए. इस साल की दिवाली उत्सव हमें पटाखों को बिना जलाये मनाना चाहिए.

Diwali without firecrackers

इस दिवाली में हमें पटाखें जलने की पुराणी परंपरा को तोड़ कर एक स्वास्थ्य पूर्ण भविष्य के और देखना चाहिए. इस साल हमें दिये जलाकर, मिठाई बांटकर खुशीसे मनानी चाहिए. ना की प्रदुषण कर के. तो चलिए हम सब मिलकर pollution free diwali मनाते है.

आशा करता हूँ की आपको “दिवाली उत्सव 2017 No firecrackers this diwali 2017 Hindi” यह post पसंद आया होगा.

Happy Diwali in Advance | Diwali 2017

ज्यादा जानकारी के लिए यहाँ पर जाये : indiawaterportal

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: